gulzar shayari in hindi

gulzar shayari in hindi- 500+ Gulzar Ki Shayar

gulzar shayari in hindi

विश्व प्रसिद्ध शायर गुलजार जिनका पूरा नाम “सम्पूर्ण सिंह कालरा” हैं. वो एक
लोकप्रिय गीतकार, स्क्रिप्ट राइटर , लेखक ,फिल्म निर्देशक और प्रशिद्ध शायर थे |
गुलजार को कई सम्मान से समानित किया गया हैं. उन्हें भारत के सर्वोच्च
सम्मान पद्म भूषण, ग्रेमी अवार्ड और विश्व प्रशिध आस्कर अवार्ड से भी
समानित किया गया हैं|

इस पोस्ट में गुज़र साहब के द्वारा लिखी गई कुछ पंक्तियाँ आपके साथ साझा की जा रही
है अगर आप शायरी पढ़ने के शौक़ीन है तो जरूर आपको पसंद आएगी |

तेरे बगैर किसी और को देखा नहीं मैंने
सुख गया वो तेरा गुलाब मगर फेका नहीं मैंने।

जिन लोगो की हंसी खूबसूरत होती है
याद रखना की उनके ज़ख्म बहुत गहरे होते हैं।

मंजिल भी उसकी थी रास्ता भी उसका था
एक हम अकेले थे काफिला भी उसका था।

अपने दिल की हाल हर एक को मत बताया करो
यंहा तमाशा बनने में देर नहीं लगती।

gulzar shayari in hindiगुलज़ार शायरी इन हिंदी

इंसान कितना भी किस्मत वाला क्यों न हो
फिर भी ज़िंदगी में कुछ खुवाईसे अधूरी रह जाती है।

बड़ा गजब किरदार है मोहब्बत का
अधूरी हो सकती है मगर ख़त्म नहीं।

कहते हैं जो पा लिया वो मोहब्बत ही क्या
जो सुलगता रहे वही इसक लाजवाब है

आँखे तलाब नहीं फिर भी भर जाती है.
दिल कांच नहीं फिर भी टूट जाता है
और इंसान मौषम नहीं फिर भी बदल जाता है।

आँशु का बूंद है ये ज़िंदगी का सफर
कभी फूल में तो कभी धूल में।

फुर्सत मिले तो कभी बैठकर सोचना
तुम ही मेरे अपने हो या हम भी सिर्फ तुम्हारे हैं

उन्हें कल हैरानी हुयी हमे इस हाल में देखकर
की भला टूटकर भी कोई मुस्कुराता है।

ये सारे खेल अहसासों का है ज़नाब
वरना मोहब्बत तो साथ फेरो के बाद भी नहीं होती।

gulzar shayari on love

साथ साथ चलने की कस्मे भी उसी की थी
और रास्ता बदलने का फैसला भी उसका था।

बिना आवाज़ का रोना
रोने से भी ज्यादा दर्द देता है।

किसी से प्यार करो बस उम्मीद मत रखो
तकलीफ प्यार करने से नहीं करने से होती है।

सजा देने हमे भी आती है
पर तू तकलीफ से गुजरे यह हमे गवारा नहीं।

जो लोग तुमसे तंग आ जाये उसे छोड़
दो क्योकि बोझ बन जाने से याद बन जाना बेहतर है

जो तुमने किया सायद वो इसक नहीं था
क्यों की वो इसक नहीं जो साथ छोड़ दे।

आँशु छुपा रहा हु तुमसे की दर्द बताना नहीं आता
बैठे बैठे भींग जाती है पलके दर्द छुपाना नहीं आता।

Hindi Shayari- Gulzar ideas | gulzar quotes, hindi quotes

मुस्कुराहटें झूठी भी हो सकती है
इंसान को देखना नहीं समझना सीखो।

उसके चले जाने के वाद हमने मोहब्बत नहीं की
छोटी सी ज़िंदगी है किस किस को आजमाते रहे।

इल्जाम तो कांटे पर ही आएगा
ये सोचकर फूल भी कई बार जख्म दे जाते हैं

बड़ी तसल्ली से देखा मैं उससे अगर
आज नींद नहीं आयी तो कोई बात नहीं।

हर तनहा रात में एक नाम याद आता है
कभी सुबह कभी शाम याद आता है

मैंने हर दर्द में इंसान को मरते देखा है
कम्बख्त इसक तुझे मौत क्यों नहीं आती।

gulzar shayari in hindi 2 lines

बहुत कहा था तुमसे मुझे अपना मत बनाओ
अब अपना बना ही लिया है तो तमाशा मत बनाओ

जब सोचते हैं करले दोबारा मोहब्बत
फिर पहली मोहब्बत का अंजाम याद आता है

हम अपनी रूह तेरे जिस्म में छोड़ आये
तुझे गले से लगाना तो एक बहाना था।

हर एक जज़्बात हो जुबान नहीं मिलती
हर एक आरजू को दुआ नहीं मिलती।

सब्र करो जिसके तुम काबिल हो
ज़िंदगी वो हर चीज तुम्हे देगी।

दर्द तब होता है जब तुम्हे किसी से मोहब्बत हो
और उसके दिल में कोई और हो।

मुस्कान बनाये रखो तो दुनिया है साथ
बरना आंशुओ को तो आँखों में भी पनाह नहीं मिलती।

कभी कभी इरादा सिर्फ दोस्ती का होता है
और पता ही नहीं चलता कब प्यार हो गया।

 Gulzar Quotes Hindi  

किसी ने मुझसे कहा तुम बहुत अच्छे हो।
मैंने भी उससे कहा बस यही तो खराबी है

यकीन मानो वह इंसान तुम्हे सच में चाहता है।
जो अक्सर फ़ोन काटते वक्त तुमसे ये कहता है
की तुम्हारे हर परेशानी में मैं तुम्हारे साथ हु।

मीलो का सफर पल भर में बर्वाद हो गया।
जब उसने कहा कहो कैसे आना हुआ।

कभी कभी तन्हाई भी बहुत सुकून देती है
जब हमारे पास खोने को कुछ नहीं होता।

गलती पर साथ छोड़ जाने वाले तो बहुत मिलते हैं।
लेकिन गलती पर निभाने वाले बहुत कम।

वक्त सबको मिलता है ज़िंदगी बदलने के लिए
ज़िंदगी दोबारा नहीं मिलती वक्त बदलने के लिए।

मुझे आदत नहीं यूँ ही हर किसी पे मर मिटने की
और तुझे देखकर दिल ने सोचने तक का मोहलत नहीं दिया

Gulzar Quotes On Life 

हमारी लाइफ में कुछ लोग ऐसे होते हैं
जो हमसे कितनी भी बात करले मगर मन नहीं भरता।

ऐ दिल तू क्यों रोता है ये दुनिया है
यहाँ ऐसा ही होता है।

इश्क ए दरिया में हम डूब कर भी देख आये
वो लोग मुनाफे में रहे जो किनारे से लौट आये।

ज़िंदगी किस्मत से चलती है साहब
दिमाग से चलती तो बीरवल बादशाह होता।

बड़ा ही अजीब इत्तेफाक है
प्रेम की कोई सिमा नहीं होती
और सिमा में रहकर प्रेम नहीं होता।

तुम याद नहीं आते
तुम याद ही रहते हो।

छीन लेता है मुझसे हर चीज ए खुदा।
क्या तू भी इतना गरीब है।

खुदा जाने कौन सा गुनाह कर बैठे हैं हम।
की तमन्नाओ वाली उम्र में तजुर्बे मिल रहे हैं।

gulzar shayari in hindi 2 lines on life

बीते हुए लम्हो की कसक साथ तो होगी
खवाबो में ही हो चाहे मुलाकात तो होगी।

कोई गलती हो तो बेसक डांट लिया करो
मगर यु खामोश न रहा करो।

जिसको कह रहा है पुराना लगा मुझे
ये घर खरीदने में ज़माना लगा मुझे।

बर्तन खाली हो तो ये मत समझो की मांगने चला है
हो सकता है सबकुछ बाँट के आया हो।

जब तेरी याद आती है तो ये आँखे मान जाती है
पर ये कम्बख्त दिल रो पड़ता है।

ये तो परिंदो की मासूमियत है साहब।
वर्ना दुसरो के घरो में जाता कौन है

जब मिलो किसी से तो जरा दूर का रिस्ता रखना
बहुत तड़पाते हैं अक्सर सीने से

उम्र जाया कर दी लोगो ने औरो के बजूद में
नुक्स निकालते निकालते।
इतना खुद को तरासा होता तो फरिस्ते बन जाते

 गुलज़ार की शायरी 

लोग किसी का दिया हुआ साथ तो अक्सर भूल जाते हैं
मगर किसी का दिया हुआ धोखा नहीं भूलते।

गलत फैमियो के किस्से इतने दिलचस्प हैं
हर ईट सोचती है दिवार मुझपर टिकी है।

सागर नदी झील आँखे पानी सब में होता है
फर्क बस गहराई का होता है।

सब लोग बदल गए अब अपनी
भी बारी है।

खत लिखे थे जो तुमने कभी प्यार में
उसको पढ़ते रहे और जलाते रहे

अक्सर उसी इंसान के साथ बुरा क्यों होता है
जो हमेसा दुसरो को खुश रखना चाहता है।

जिंदगी छोटी नहीं होती है लोग जीना ही देरी से
शुरू करते हैं

Best gulzar ki shayari

कदर तो वो होती है जो किसी के मौजहुङ्गी में हो
जो किसी के बाद हो उसे पछताबा कहते हैं।

अब ज़रूरी हो गया है दर्द में मुस्कुराते रहना
क्योकि इस हालत में लोग सवाल बहुत करते हैं।

इंतजार तो प्यार में सिर्फ वही कर सकता है।
जिसने प्यार दिल से किया हो जिस्म से नहीं

ज़िंदगी उस मुकाम पर आकर ठहरी है
अगर मैं हसना भी चहु तो रोना आता है।

अगर रोकर भुलाई जाती यादें तो
तो हँसकर कोई गम नहीं छुपाता।

रात को रो रो कर सोना सुबह किसी को महसूस न होने देना
मोहब्बत यह हुनर भी सीखा देती है

अगर दिल गलत जगह लग जाए
तो एक न एक दिन उसे टूटना पड़ता है

Gulzar Shayari in Hindi 2 lines

तू वही है न पहले फसाया फिर हसाया
फिर अपना बनाकर बहुत रुलाया

कभी भी किसी से उतनी उम्मीद मत रखना की
उम्मीद के साथ तुम भी टूट जाओ।

गम मौत का नहीं है
गम ये है की आखरी वक्त भी तुम मेरे घर नहीं है।

पानी आँखों में हो या दरिया में
गहराई और राज दोनों में होती है

शक्ल और सूरत मोहब्बत करने वालो को
कभी दिल से चाहने वाले नहीं मिलते।

मेरे दिल में एक धरकन तेरी है।
उस धरकन की कसम तू ज़िंदगी मेरी है

दोनों ही मजबूर थे अपने अपने दायरे में
एक इसक सका दूसरा भुला न सका।

gulzar ki shayari hindi mai-गुलज़ार शायरी हिंदी में

छत टपकती थी फिर भी नींद आ जाती थी
मैं नए घर में बहुत रोया पुराने घर के लिए।

वक्त आने पर करा देंगे हदो का अहसास
कुछ तालाब खुद को समुंदर समझ बैठे है।

तेरी यादो के जो आखरी ये निशान
दिल तड़पता रहा हम मिटाते रहे

भूल जाऊंगा तुझे उसी पल उसी वक्त
बस उससे मिलादे जो तुझे मुझसे ज्यादा चाहे।

छोड़ दिया उसको याद करना हमेशा के लिए
जब रात गुजर सकती है तो ज़िंदगी भी गुजर जाएगी।

आपके नखरे बस वही उठा सकता है
जो आपसे सच्चा मोहब्बत करता हो

क्या ज़माना आ गया है अगर बात जरुरत की हो।
तो हर सक्स की जवान मीठी लगने लगती है।

gulzar romantic shayari -गुलजार रोमांटिक शायरी

सिर्फ एक गलती की देर है
लोग भूल जायेंगे की तुम पहले कितने अच्छे थे।

अगर कोई तुम्हे रुलाये तो सब्र कर लेना
की ज़िंदगी के किसी मोड़ पर वो तुमसे जयादा रोयेगा

हम तुम्हे खोना नहीं चाहते और तुम्हारे।
सिवा किसी और का होना नहीं चाहते।

कुछ लोग पिघलकर मोम की तरह रिश्ते निभाते हैं
कुछ लोग आग बनकर उन्ही को जलाते हैं।

जिन्हे की अकेलापैन क्या होता है
वो लोग दुसरो के लिए हमेसा हाजिर रहते हैं

ये कफ़न ये ज़नाज़ा सब बाते है
वरना मर तो इंसान तभी जाता है जब कोई याद नहीं करता।

कभी भी किसी के लिए खुली किताब मत बनना
टाइमपास दौर है साहब पढ़कर फेक देते हैं

अगर मोहब्बत उनसे न मिले जिसे आप चाहते हो
तो मोहब्बत उनको जरूर देना जो आपको चाहते हैं

gulzar sad shayari

जी लो हर लम्हा बीत पहले
लौटकर सिर्फ यादे आती है वक्त नहीं।

देना ही है तो जहर दे दो
मगर किसी को झूठी उम्मीद मत दो।

सारे शिकायतो का हिसाब जोड़कर रखा था मैंने
उसने गले लगाकर सारा हिसाब ही बिगड़ दिया।

लड़ना चाहता हु अपनों से पर डरता हु
जीत गया तो भी हार जाऊंगा।

तुझे तेरी ख़ुशी के लिए छोड़ा है
जा मुझे बुरा समझकर मुझसे अच्छा ढूंढ ले।

उम्र बिना रुके सफर कर रही है
और हम खुवाहिसे लेकर वही रुके हुए हैं।

ज़िंदगी में रिश्ते ऐसे बन जाते हैं जिन्हे
हम समझते तो हैं पर समझना नहीं चाहते।

कभी कभी उनसे भी दूर होना पड़ता है
जिसके साथ हम पूरी ज़िंदगी गुजारना चाहते हैं

Gulzar shayari love

जितना गहरा रिस्ता उतनी जयादा उमीदे
और जितनी ज़्यादा उम्मीदे उतनी गहरी चोट

थोड़ा और बताओ न मुझे मेरे बारे में
सुना है तुम मुझे अच्छे से जानते हो।

बदलते मौषम जैसे रिश्ते अच्छे नहीं ज़नाब
दो चार महीने में आदते मिलती है दिल नहीं।

बस यही सोचकर कोई सिकवा नहीं किया मैंने
क्योकि हर कोई अपने जगह सही होता है।

फुर्सत में याद कर लेते थे वह हमे
और हम खुद को खाश समझ बैठे

न चाहते हुए भी किसी को छोड़ना पड़ता है
कुछ मजबूरिया मोहब्बत से भी ज्यादा गहरी होती है।

जाने से पहले एक बार लौट जरूर आना
वापस करने को तुम्हारी यादे बहुत है।

याद रखना वही इंसान तुम्हारा परवाह करता है
वही इंसान तुम्हारी ख़ामोशी को समझ पाता है।

गुलज़ार दिल से शायरी

तुझे पाने की ज़िद थी अब भुलाने का खुवाब है
ना ज़िद पूरी हुयी न ही खुवाब

झुकने से रिस्ता गहरा हो तो झुक जाओ
पर हर बार आपको ही झुकना पड़े तो रूक जाओ।

सक्कर से ज्यादा मीठी लगती थी तुम्हे
जरा सा सच क्या बोलै जहर हो गयी।

ठंड रोटियां अक्सर उन्ही के हिस्से में आती है
जो अपनों के लिए कमाकर देर से घर लौटते हैं।

मुझे नहीं मतलब कौन किसके साथ है।
जो मेरे साथ अच्छा है वो मेरे लिए अच्छा है। .

कदर तो वो होती है जो किसी के मौजूदगी में हो
जो किसी के वाद हो उससे पछतावा कहते हैं।

नसीब नसीब की बात है कोई नफरत देकर भी प्यार पाता है
कोई बे पनाह मोहब्बत करके भी अकेला रह जाता है।

गुलजार शायरी स्टेटस

उठाना खुद ही पड़ता है थका हुआ बदन अपना
जब तक सांसे चलती है कन्धा कोई नहीं देता

ज़िंदगी तो अहसासों में ही कट गयी
मुकम्बल होता कुछ तब तक वो बात बीत गयी।

ये दुनिया मतलबी है कोई खाश नहीं होता
जब आती है मुसीवत कोई पास नहीं होता।

अक्सर दिखावे का प्यार ही शोर करता है
सच्ची मोहब्बत तो इसारो में सिमट जाती है।

वफादार लड़कियों की निसानी है
वो तुमसे वक्त मांगेगी दौलत नहीं।

हमारी प्यास की अंदाज़ भी अलग है दोस्तों
कभी समुन्दर को ठुकरा देते हैं तो कभी आँशु तक पि जाते हैं

सोचता हु कुछ किस्से कहु
पर किस से कहु।

तुम नदी मैं एक झरना
मैं गिरता रहा तू सँभालते रहे।

गुलजार की शायरी जिंदगी

जिन्हे ज्यादा गुस्सा आता है
वह उतना प्यार करने वाले और दिल सच्चे होते हैं।

चंद दिनों की ख़ामोशी तो ठीक है
लेकिन सफर अगर लम्बा हो तो रुला देती है

सच्चा प्यार करने वाला मर्द कभी औरत को बड़े
बड़े सपने नहीं दिखाते हैं

तुझे खोने के डर से तुझे पाया ही नहीं
ज़िंदगी भर तड़पता रहा तुझे बताया ही नहीं।

याद रखना उस इंसान कोई बदल नहीं सकता।
जिसे अपनी ही गलती कभी नजर नहीं आती।

यु तो कोई सबूत नहीं की वो मेरे हैं
दिल का रिस्ता है बस यकीं से चलता है

दिल से बड़ी कोई कब्र नहीं ज़नाब
हर रोज कोई न कोई अहसास दफन हो जाता है

इश्क उससे हुआ और हुआ भी गजब का
की जिसे आज भी सोचता हु तो खो जाता हु|

Swami Vivekananda Quotes | Best 101+ स्वामी विवेकानंद के विचार

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close Bitnami banner
Bitnami