Heer ranjha story in hindi

Heer ranjha story in hindi : हीर राँझा की प्रेम कहानी

Heer ranjha story in hindi : हीर राँझा की प्रेम कहानी

 प्यार  की न तो कोई परिभाषा है न तो इन्हे शब्द में बया किया जा सकता है दुनिया में प्यार  ही ऐसा है जिसका कोई मोल नहीं है जिसको कभी पैसे से नहीं ख़रीदा जा सकता ये तो एक ऐसा खूबसूरत अहसास है जो दो लोग आपस में गहराई से जोरता है  | ये एक ऐसा बंधन है जो दो लोग को गहराई से बांध देता  है प्यार साथ होने से दुनिया जन्नत लगने लगती है |सच्चा प्यार हमेसा दिल से प्यार करने वालो को ही मिलती है प्यार किसी से आसानी से हो तो सकता है लेकिन आसानी से ख़त्म नहीं हो सकता। 

                                                        दुनिया में कई प्यार के किस्से और कहानी है जो साबित करता है की सच्चा  प्यार न तो हारता है न ही झुकता है। हमेसा जीत प्यार की ही होती है उन्ही कहानियो में से एक कहानी हीर- राँझा की है। हीर का जन्म  पाकिस्तान के पंजाब में  अमीर  जाट  परिवार में हुयी  था। और राँझा का जन्म तख़्त हजारी  गांव में मौजू  चौधरी जो   सबसे बड़े जमींदार थे उन्ही के यंहा हुआ था  उनके चार पुत्र थे राँझा उनका सबसे छोटा पुत्र था  राँझा का असली नाम भीदो था और राँझा उसका उप नाम था इसलिए  सभी लोग उसे राँझा के नाम से पुकारते थे 

Heer ranjha story in hindi

                                                                             राँझा अपने घर में सबसे छोटा  होने के कारन   अपने पिता का सबसे प्रिय पुत्र था राँझा के तीनो भाई खेतो में बहुत मेहनत करता था और राँझा कोई काम धंधा नहीं करता था और भर दिन बांसुरी  बजाया  करता था के बात उनके भाई और और भाभी  को अच्छा नहीं लगता था इसीलिए वो लोग उनसे बहुत नफरत करते थे  इसी कारन से उसके घर में हमेसा विवाद  होता रहता था। एक दिन राँझा घर छोड़ के चला गया  राँझा को बचपन से ही खूबसूरती से प्रेम था  वो वो सपने  में ही एक खूबसूरत हसीना की तस्वीर गढ़  ली थी। राँझा बहुत ही आशिक़ मिजाज का लड़का था महज 12 साल की उम्र में ही उसके पिता का देहांत हो गया था। बाद में उसे अपने भाईयो से भी विवाद हो गया वो अपना घर छोड़कर सारा दिन पेड़ के नीचे बैठकर बांसुरी बजाया  करता था। और अपने सपनो के राजकमारी  के बारे में सोचा करता था। एक पीर  ने पूछा तुम इतने दुखी क्यों हो तब राँझा ने पीर को अपने द्वारा रचित गीत सुनाये  जिसमे उसने अपने  राजकुमारी का उल्लेख किया था पीर ने उसे बताया तुम्हारे सपनो की राजकुमारी हीर के अलावा कोई और नहीं हो सकती। पीर की बात सुनकर रांझा अपने हीर को ढूंढे के लिए वहां  से चल पड़ा। एक रात राँझा को मस्ज़िद  में ठहरना पड़ा। और सुबह रबाना हुआ और हीर के गांव पहुंच गया।  

       पहली बार हीर को देखते ही रांझा समझ गया यही मेरी सपनो की राजकुमारी है हीर बहुत ही समझदार और खूबसूरत लड़की थी। एक रात राँझा हीर के नाव में सो गया  हीर जब उसे देखि तो आग बबूला हो गयी और एक जबान मर्द रांझे  को देखकर वो अपना गुस्सा भूल गयी। और रांझे को देखते रह गयी तब राँझा ने उसे अपने सपनो की बात कही। रांझे पर फ़िदा हीर उसे अपने घर ले गयी और अपने यंहा नौकरी पर रखवा लिया। हीर राँझा के घर पर मवेशी को चराने का काम किया करता था। और रांझा मवेशियों को चराता और बाँसुरी बजाता  हीर बाँसुरी की आवाज सुनकर मंत्र मुग्ध हो जाती थी। और धीरे धीरे हीर को भी राँझा से गहरा  गया वो कई सालो तक गुप्त जगहों पर छुप छुप कर मिलते रहे। ये  सारी बात की खबर हीर के चाचा को हो गयी वो तुरंत  उसके पिता चूचक  को ये खबर बता दिया। हीर के घरवालों तुरंत रांझे को नौकरी से  निकाल दिया और दोनों को मिलने से मना कर दिया। और हीर का शादी सईदा खेरा नाम के आदमी से तय कर दिया। मौलबी और अपने परिवार के दबाब में आकर उसने सईदा खेरा से निकाह काबुल कर ली। जब ये खबर रांझा को पता चला तो उसका दिल टूट गया। वह गांव के इलाको में दर बदर भटकता रहा। उसे एक दिन गोरख नाथ नाम का एक जोगी मिला जिसके बाद राँझा भी उसके साथ जोगी बन गया। रब का नाम लेता हुआ वो पुरे पंजाब में भटकता रहता था अंत में उसे एक दिन हीर का गांव मिल गया जहाँ वो रहती थी वो हीर के पति सईदा  के घर गया और उसका दरवाजा खटखटाया आवाज सुनकर जब हीर बहार आयी तब उससे भिक्छा देने लगी। दोनों एक दूसरे को  देखते रह गए राँझा रोज फ़क़ीर बनकर आता और हीर उसे भिक्छा देती यह सिलसिला कुछ दिन चला  एक दिन ये हीर की सब देख लिया। उसने हीर को जब टोका तो राँझा गांव से बहार चला गया सारे गांव रांझे को पूजते थे रांझे के याद में हीर बीमार पर गयी  कही भी उसका इलाज नहीं हुआ तब हीर के ससुर रांझे के पास गए। 

Heer ranjha story in hindi

                        राँझा हीर के  घर गया और उसके सर पर हाथ रखा और हीर की चेतना लौट आयी जब लोगो को पता चला की वो राँझा है तो लोगो ने उसे पीट कर गांव  से निकाल दिया और राजा ने उसे चोर समझकर पकड़ लिया जब राँझा ने राजा को हकीकत बताया और अपने प्यार की परीक्षा देने के लिए आग पे हाथ  रख दिया तब राजा ने हीर  के पिता को आदेश दिया की हीर की शादी रांझे से करा दिया जाय  राजा के दर से उसके पिता ने इस शादी की मंजूरी दे दी  ये ख़ुशी हीर के चाचा कैडो को बर्दास्त नहीं हुआ और हीर के खाने में जहर दे दिया  ताकि ये शादी  न हो सके ये सूचना मिलते ही राँझा हीर के पास पहुंच गया तब तक  बहुत देर हो गयी थी  और वो खाना हीर का चुकी थी उस जहरीली खाने से उसकी मौत हो गयी राँझा ये दुख को झेल नहीं पाया और उसने भी ये जहर वाला खाना का लिया और रांझे की भी मौत हो गयी। हीर राँझा को उनके गांव झिंग में ही दफ़न कर दिया गया  कहते हैं न की  अजल से मोहाबत की दुसमन है दुनिया कभी दो दिलो  को मिलने  न देगी  आज भी उनके कब्र पर प्रेम का मजार बना हुआ है भले वो मर गए लेकिन आज भी हीर रांझे को उनके प्यार की महानता को  याद किया जाता है  हर सच्चे प्यार करने वाले हीर रांझे की कस्मे खाते हैं  कहते है इस दुनिया में हीर रांझे   लैला मजनू               रोमियो जूलिएट जैसे सच्चे प्रेमियों के किस्से देखने को मिलता है   तो ये रही हीर रांझे की प्यार की सच्ची कहानी  कैसी लगी ये कहानी comment करके जरूर  बताये  अगर आप भी किसी से सच्चा प्यार करते हैं तो वो आपको  जरूर मिले  ये मेरा भागवान से प्रार्थना है   घन्यवाद –


लैला-मजनूँ की प्रेम-कहानी – Laila Majnu ki prem kahani

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close Bitnami banner
Bitnami