Romeo and Juliet Story in Hindi

रोमिओ जूलियट प्रेम कहानी- Romeo and Juliet Story in Hindi

 Romeo and Juliet Story in Hindi | रोमिओ जूलियट प्रेम कहानी

दुनिया में कई महान प्रेमी प्रेमिकाओ  के   किस्से सुने जाते जिन्होंने अपने सच्चे   प्यार के कारन इस दुनिया में  मशहूर हुए हजारो साल बाद भी उन्हें याद किया जाता है। लेकिन आजकल का प्यार बस  दो दिन भी नहीं टिक पाती है प्यार एक ऐसा शब्द है जिसका चाह हर इंसान  को होता है  हर कोई  एक ऐसा साथी चाहता है जो उससे घंटो बात  सके। अपने दिल की बात कह सके  पहले  मोहब्बत  में कसमे वादे किये जाते थे और आशिक अपने प्यार के लिए जान भी दे देते थे  उन आशिको में जूनून था अपने प्यार को हांसिल करने का आजकल का मोहब्बत एक दिखाबे के अलावा कुछ नहीं है कहा गया है सच्चे प्यार  को दिखाबे की जरुरत नहीं होती। सच्चे  प्यार करने वाले अक्सर हीर -राँझा  लैला- मजनू  जैसे सच्चे प्रेमियों का उदाहण देते है 

                                                          उन्ही प्रेमियों  में से रोमियो और जूलिएट की प्रेम कहानी है –

Romeo and Juliet Story in Hindi

       रोमियो और जूलिएट का जन्म इटली के बोरेना नामक शहर में हुआ था जहाँ  मोंटेग्यू और  केपुलेट नाम के दो अलग कुलीन  परिवार थे दोनों परिवारों के बिच गहरी दुश्मनी थी दोनों एक दूसरे से बहुत नफरत करते थे। रोमियो का जन्म मोंटेग्यू परिवार में हुआ था और जूलिएट का जन्म केपुलेट परिवार में हुआ था  | जुलाई का महीना था बसंत ऋतू अपनी जवानी लहरा रही थी पेड़ पौधे फूल पतियों का आनंद ले रहे थे  एक दिन केपुलेट परिवार के यहाँ   मुखौटा नृत्य का आयोजन किया गया था  जिसमे रोमियो और उसके मित्र चुपके के वहां पहुंचे थे  जिसमे पहली बार रोमियो की मुलाकात जूलिएट से हुआ जब उन दोनों ने एक दूसरे को देखा तो पहले ही नजर में प्यार हो गया रोमियो अपने आप को  रोक  न सका  और एक दिन चुपके से जूलिएट के घर जाकर उसके निजी कमरे में अपने प्यार का इजहार  कर दिया जूलिएट भी रोमियो से बहुत प्रेम करती थी वह उसे पाने के लिए तरप रही थी  रोमियो और जूलिएट के परिवारों के बीच  नफरत के कारण उन दोनों का प्यार कभी मिल नहीं सकती थी  न ही कभी शादी हो सकती थी। इसी परिस्थिति में इन दोनों आशिक़ो ने गिरजाघर यानि चर्च में जाकर अपने परिवार को बिन बताये उस चर्च के पादरी के समक्ष अपनी गुप्त शादी कर ली पादरी   थे थी अगर समय उन दोनों परिवार को अगर इनकी शादी की खबर  हो  गयी तो सायद नफरत ख़त्म हो जायेगा लेकिन एक दिन रोमियो के मित्र मरर्क्युश्यो  को तिबोल्ट  के एक एक आदमी से झगड़ा हो गया  जिसमे रोमियो अपने मित्र को बचाने गया जिसमे मौका पाते  टिबोल्ट ने उसके दोस्त को तलवार से गर्दन उड़ा दिया और उसकी मृत्यु हो गयी अपने दोस्त का बदला लेने के लिए रोमियो टिबोल्ट का पीछा करके उसका भी मौत का घाट उतर दिया। इस हत्या के कारन उसे सजा  के रूप में वहां के राजा उसे  सूर्य उदय से पहले उसे शहर  से निकाल दिया। इसी दौरान जूलिएट के पिता जूलिएट की शादी पेरिस के काउंट के साथ तय कर दिया। रोमियो शहर से निष्कासित जीवन जी रहा था और पागलो की तरह भटकता रहता था और जूलिएट जूलियट कहता रहता था  रोमियो की अनुपस्थिति में जूलिएट भी उदाश रहती थी हमेशा रोमियो के लिए चिंतित  रहती थी।

Romeo and Juliet Story in Hindiरोमिओ जूलियट प्रेम कहानी

एक दिन जूलिएट ने चर्च के पादरी से अपनी दुःख बया की पादरी ने उसे एक योजना बताया उसका योजना यह था की वह  दबा देगा जिसके खाने के वाद वह कुछ समय के लिए उसकी मृत्यु  जाएगी। इसके पस्चात रोमियो उसको बचा लेगा  जूलिएट ने दबा खा लिया दबा खाने के वाद चारो ओर सोर मच गया की जुलीयेट की मृत्यु हो गयी। जब ये खबर रोमियो को हुआ तो वह अपना सूद बुद खोकरजूलिएट के घर बेरोना पहुंच गया लेकिन बेरोना पहुंचने  के बाद उससे चर्च के पादरी के उस योजना के बारे में बिलकुल भी पता नहीं चला जूलिएट की इस स्थिति में देखकर रोमियो  ने उसे मृत समझ लिया और प्यार से उसके आँखों पर किस किया और खुद ख़ुशी कर लिया लेकिन जब कुछ देर बाद उस दबा के असर ख़त्म होने के बाद जूलिएट की आँखे खुली तब जूलियट ने रोमियो को अपने पास मरा हुआ पाया ये दुःख जूलिएट से एक पल भी नहीं संभल पाया और उसने भी अपनी जान दे दी। 

Romeo and Juliet Story in Hindi – रोमिओ जूलियट प्रेम कहानी

जब मोंटेग्यू और केपुलेट परिवार को उन दोनों के इस प्रेम के बारे में पता चला तो उनके दुखो ने वर्षो से चली आ रही ये दुश्मनी को ख़तम कर दिया और दोनों परिवार आपस में मिल गए लेकिन दोनों प्रेमी जोड़ा अब दुनिया से उठ चुका था। वे दोनों अपने इस महान प्रेमो के कारन दुनिया में  अमर हो गए  उनके साथ बेरोना शहर भी अमर हो गया। आज  भी उन्हें  याद किया जाता है  बास्तब  में वो लोग   बहुत महान थे जो अपने प्यार के करना मर मिटे आजकल के असिक उनका नाम लेकर अपने प्यार का इजहार करते हैं लेकिन इनका मोहब्बत वैसा नहीं होता है बस चार दिन का  होता है। ये लोग उनका नाम लेकर उन्हें  बदनाम करते हैं। न तो अब वो प्यार है न ही आसिको में वो दीवानगी रहती है लगता है की प्यार कही खो गया। तो दोस्तों ये रही रोमियो जूलिएट की सच्ची प्रेम कहानी  अगर आप किसी से प्रेम करते है तो आप भी सच्चे दिल से करे। और आपको अगर प्रेम कहानी पढ़ना पसंद है और ये कहानी आपको अच्छी लगी तो कमेंट करके जरूर बताये।

-धन्यवाद 

ये भी पढ़ें-

हीर राँझा की प्रेम कहानीHeer ranjha story in hindi

लैला-मजनूँ की प्रेम-कहानी – Laila Majnu ki prem kahani

                                   

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close Bitnami banner
Bitnami