KGF-Kolar Gold Field History

Kolar Gold Field History (KGF)| कोलार गोल्ड फील्ड की कहानी

KGF- Kolar Gold Field History कोलार गोल्ड फील्ड इतिहास

ये कहानी कोयले की खदान से ही ज़ुरा हुआ एक सही घटना है जो खदान आज भी मौजूद है बहुत लोग सोचते हैं ये खदान  बास्तविक में अभी भी है या कल्पना मात्र है |

                                                                                                ये खदान सदियो से लेकर आज तक मौजूद है कर्नाटक के बेंगलौर से लगभग 100 किलोमीटर दूर यह कोयले खदान मौजूद है ये भारत के सबसे पुराणी खदान में से एक है ये इतनी पुराणी है की सिंधु घाटी सभ्यता से लेकर अंग्रेजी शासक और आजाद भारत तक को भरपूर सोना देती रही यहाँ 121  सालो में लगभग 10 टन  सोने निकाला जा चूका है ये कोलार गोल्ड फील्ड ने बहुत से शासक देखा ऐतिहासिक उल्लेख बताते हैं की यहाँ प्रथम शताब्दी  ईस्वी से ही अलग अलग  समय में सोने की खुदाई होती रही है पहले गंगास फिर चोला साम्राज्य उसके बाद विजय नगर साम्राज्य उसके बाद मराठा से लेकर हैदराबाद के निजाम और हैदर अली के शासन मौजूद है उसके बाद अंग्रेजी शासक भी यहाँ से भरपूर मात्रा में सोना निकाला सदियों से साउथ इंडिया के शासक को भरपूर मात्रा में सोने की प्राप्ति हुआ ये भारत के सबसे गहरी खदान में से एक थी जहाँ 1980  से 1990  के दशको  के बिच डर्टी के सतह से लगभग तीन किलोमीटर निचे खुदाई होती थी केवल साउथ अफ्रीका के कुछ खदाने ही इससे जयादा गहरी है 19बी सदी से अंतिम में अंग्रेजी खनन  कंपनी जॉन टेलर ने इसकी खुदाई का ज़िम्मा लिया और बड़ी बड़ी मशीने लगायी गयी जिनको चलने के लिए बिजली की ज़रूरत थी तब 1902 के दसक में पहली बार KGF में ही बिजली लाया गया तब सिर्फ ऐसिया में जापान के टोकियो शहर में ही बिजली हुआ करती थी यंहा भारत का सबसे पहला और पुराण हाइड्रो  इलेक्ट्रिक प्लांट है जो काबेरी इलेक्ट्रिक प्लांट के नाम से स्थित है जब इस प्लांट से बिजली उत्पादन होना सुरु हुआ तबी ये जरुरत  से ज़यादा था इसलिए इस बिली को आस पास के गाओ शहरो  को दिया गया और देस का पहला सहर बना जहा बिजली मिली इतनी गहरी खुदाई के लिए और बिसेस उपकरण की अवश्यकता होती है इसलिए 1940 के दसक में KGF में मेनचेस्टर इंग्लैंड में बना दुनिया का सबसे बड़ा द्राम लगाया गया अंग्रेजी शासन के समय में यंहा बहुत सरे अंग्रेज तथा इंडो अंग्रेज रहा करते थे इंडो अंग्रेज जो  दीखते अंग्रेजी लेकिन पैदा भारत में हुए थे जिससे इसे लिटिल अंग्रेज भी कहा जाता था क्यों की यहाँ  का रहन सहन घर और बातावरण अंग्रेज से मिलता जुलता था |

KGF- Kolar Gold Field History

                                                            भारत के आज़ादी के बाद इन खदानों का राष्ट्रीय करण 1956  में हुआ 1970 में BJML यानि BHARAT GOLD MINE LIMITED  ने इन खदानों का नियंत्रण अपने  हाथो में ले लिया  लेकिन शुरुआत में सफलता पाने के बाद भरी भरखम स्टॉफ के कारन कम्पनी दिनों दिन घटा में चल गया 1989 आते आते ये हालत हो गयी की कर्ज का आकरा सम्पति से ज़यादा हो गया बाद में इसे बीमारी का कारन घोसित कर दिया गया छटनी करके इसके स्टाफ को 8800 से 3500 कर दिया गया और बात नहीं बनी फिर २००१ में  इसे बंद  कर दिया गया तब से लेकर आज तक कर्मचारी अदालती लड़ाई लड़ रहे हैं BGML ने काम बंद  कर दिया। 

KGF- Kolar Gold Field History

                 करीब 13000 एकर में फैला यह कोलार गोल्ड फील्ड किसी भुतहा कसबे जैसा हो गया 2016 में प्रधान मंत्री मोदी ने इसके नीलामी की घोसना की लगता है की साउथ  इंडिया का पहला बिधुत कृत शहर अब भुतहा सहर हो गया है माना  जाता है की इस खदान में अभी भी काफी मात्रा में सोना मौजूद है अभी सोना की कीमते उस समय की तुलना में लगभग 5गुना हो गया है इस खदानों का खुलना देश में बढ़ रही सोने की मांग का कुछ हिस्सा पूरा किया जा सकता है इससे देश पर परा  भार भी कुछ कम हो जायेगा खुदाई में मिले मलबे में ३० मीटर  के करीब हिल्स बन गयी है। इसके गठन के प्रकृति के कारन इस पर पौधे नहीं उग रहे हैं ये पहरो की सहर अति मनमोहक दृश्या प्रदान  करती है सिल्कोसिस जो बीमारी है जो खनन के कारन उत्पन होती है पहले बार इसी खदान में देखा गया इस खदान से कुछ दुरी पर कोली लिंगेस्वर मंदिर स्थित है जहाभगवान्  भोले नाथ का अदुयितीय और सब से बिसाल शिवलिंग स्थित है जिसके चारो ओर 1 करोड़ शिवलिंग स्थित है तो ये है बास्तविक KGF की कहानी इस पैर साउथ का एक सुपर फिल्म KGF  बना है जिसके निर्देशक प्रशांत निल है ये एक अनाथ लड़के की कहानी है जो आगे चलकर मुंबई का सबसे बड़ा गैंगस्टर रॉकी  बन जाता है  और kgf पर अपना अधिपत्य जमा लेता है जिसके किरदार में साउथ  रॉकी  स्टर यश कुमार है  ये फिल्म लोगो द्वारा सबसे ज्यादा पसन्द  किये जाने वाले सिनेमा में से एक है। 

                                 कैसी लगी आपको ये कहानी कमेंट करके जरूर बताये -और अगर अच्छी लगी तो अपने दोस्तों के साथ share जरूर करे धन्यवाद –

ये भी देखें :

रोमिओ जूलियट प्रेम कहानी- Romeo and Juliet Story in Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close Bitnami banner
Bitnami